Skip to content

कुरान से: द हेइफ़र

सूरत 2: 67-73 (गाय)

और याद करो जब मूसा ने अपनी क़ौम से कहा, “निश्चय ही अल्लाह तुम्हें आदेश देता है कि एक गाय ज़ब्ह करो।” कहने लगे, “क्या तुम हमसे परिहास करते हो?” उसने कहा, “मैं इससे अल्लाह की पनाह माँगता हूँ कि जाहिल बनूँ।”

बोले, “हमारे लिए अपने रब से निवेदन करो कि वह हम पर स्पष्ट कर दे कि वह (गाय) कैसी हो?” उसने कहा, “वह कहता है कि वह ऐसी गाय हो जो न बूढ़ी हो, न बछिया, इनके बीच की रास हो; तो जो तुम्हें हुक्म दिया जा रहा है, करो।”

कहने लगे, “हमारे लिए अपने रब से निवेदन करो कि वह हमें बता दे कि उसका रंग कैसा हो?” कहा, “वह कहता है कि वह गाय सुनहरी हो, गहरे चटकीले रंग की कि देखनेवालों को प्रसन्न कर देती हो।”

बोले, “हमारे लिए अपने रब से निवेदन करो कि वह हमें बता दे कि वह कैसी हो, गायों का निर्धारण हमारे लिए संदिग्ध हो रहा है। यदि अल्लाह ने चाहा तो हम अवश्य। पता लगा लेंगे।”

उसने कहा, ” वह कहता है कि वह ऐसी गाय है जो सधाई हुई नहीं है कि भूमि जोतती हो, और न वह खेत को पानी देती है, ठीक-ठाक है, उसमें किसी दूसरे रंग की मिलावट नहीं है।” बोले, “अब तुमने ठीक बात बताई है।” फिर उन्होंने उसे ज़ब्ह किया, जबकि वे करना नहीं चाहते थे।

और याद करो जब तुमने एक व्यक्ति की हत्या कर दी, फिर उस सिलसिले में तुमने टाल-मटोल से काम लिया – जबकि जिसको तुम छिपा रहे थे, अल्लाह उसे खोल देनेवाला था।

तो हमने कहा, “उसे उसके एक हिस्से से मारो।” इस प्रकार अल्लाह मुर्दों को जीवित करता है और तुम्हें अपनी निशानियाँ दिखाता है, ताकि तुम समझो।